Breaking News
Home / Latest / जौनपुर। भारत में आज लगेगा चंद्र ग्रहण मंगलवार की रात 1: 31 बजे से शुरू होगा चंद्रग्रहण

जौनपुर। भारत में आज लगेगा चंद्र ग्रहण मंगलवार की रात 1: 31 बजे से शुरू होगा चंद्रग्रहण

जौनपुर(16जुलाई)। भारत में मंगलवार को चंद्र ग्रहण लगेगा। हम जानते हैं कि चंद्रग्रहण के दौरान धरती और चांद एक सीध में आ जाते हैं। इस वजह से पृथ्वी की छाया चांद पर पड़ती है और चांद का रौशन हिस्सा ढक जाता है। याद रहे कि आशंकि चंद्र ग्रहण हमेशा पृथ्वी की बाह्य छाया के अधीन आने से ही शुरू होता है।
मंगलवार यानी 16 जुलाई की रात से भारत समेत दुनिया के कई देशों में आंशिक चंद्र ग्रहण दिखाई देगा। चंद्र ग्रहण सबसे ज्यादा समय तक एशियाई देशों में ही देखा जा सकेगा। यूरोप, अफ्रीका, ऑस्ट्रेलिया और दक्षिण अमेरिका के विभिन्न हिस्सों में भी लोग यह नजारा देख पाएंगे। भारत में आज आषाढ़ पूर्णिमा का दिन है। आषाढ़ पूर्णिमा को गुरु पूर्णिमा के रूप में मनाया जाता है। इस लिहाज से चंद्र ग्रहण का विशेष महत्व है।
देश में कब दिखेगा चंद्र ग्रहण? 
आंशिक चंद्र ग्रहण हमेशा पृथ्वी की बाह्य छाया के अधीन आने से ही शुरू होता है। इस बार चंद्र ग्रहण की कुल अवधि 3 घंटे 57 मिनट 56 सेकंड की होगी। भारतीय समयानुसार चंद्र ग्रहण 16 जुलाई की रात 1 बजकर 31 मिनट पर शुरू होगा और 17 जुलाई की सुबह 4 बजकर 30 मिनट पर खत्म होगा। चंद्रमा 16-17 जुलाई की मध्य रात्रि को 12:13 बजे को पृथ्वी की बाहरी छाया और 1:31 बजे केंद्रीय छाया के अधीन आ जाएगा। रात के तीन बजे चंद्र ग्रहण का सबसे ज्यादा असर दिखेगा जब चांद के सबसे बड़े हिस्से पर पृथ्वी की छाया पड़ेगी और वह काला दिखने लगेगा। अमेरिकी स्पेस एजेंसी नासा के डेटा के अनुसार चांद भारतीय समयानुसार मध्यरात्रि 12:13 बजे पेनंब्र में प्रवेश करेगा। इसके बाद 1:31 बजे अंब्र में प्रवेश करेगा। 17 जुलाई की सुबह 3 बजे चंद्र ग्रहण अपने चरम पर होगा। इसके बाद चांद अंब्र से सुबह 4:29 मिनट पर बाहर निकल जाएगा। सुबह 5:47 बजे चांद पेनंब्र से बाहर निकलेगा।
क्यों खास है इस बार का चंद्र ग्रहण 
चंद्रगहण की यह घटना अपने आप ऐतिहासिक होने जा रही है। इस बार के चंद्र ग्रहण की दो खास बातें हैं। पहली यह कि 149 साल बाद गुरु पूर्णिमा के दिन चंद्र ग्रहण लग रहा है। गुरु पूर्णिमा के दिन हिंदू और बौद्ध मतावलंबी अपने आध्यात्मिक गुरुओं एवं शिक्षकों के प्रति आभार प्रकट करते हैं।
पिछली बार कब दिखा था चंद्र ग्रहण 

पिछली बार 12 जुलाई, 1870 को गुरु पूर्णिमा और चंद्र ग्रहण एक साथ पड़े थे। हिंदू पंचांग की मानें तो इस ग्रहण को खंडग्रास चंद्र ग्रहण कहा जा रहा है।

क्यों खास है इस बार का चंद्र ग्रहण 
चंद्रगहण की यह घटना अपने आप ऐतिहासिक होने जा रही है।इस बार के चंद्र ग्रहण की दो खास बातें हैं। पहली यह कि 149 साल बाद गुरु पूर्णिमा के दिन चंद्र ग्रहण लग रहा है। गुरु पूर्णिमा के दिन हिंदू और बौद्ध मतावलंबी अपने आध्यात्मिक गुरुओं एवं शिक्षकों के प्रति आभार प्रकट करते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *