Breaking News
Home / Latest / श्रीकृष्ण कथा व्यभिचार को दूर कर सुंदर समाज का निर्माण करता है-महराज विष्णु शरण

श्रीकृष्ण कथा व्यभिचार को दूर कर सुंदर समाज का निर्माण करता है-महराज विष्णु शरण

करियांव में चल रही सात दिवसीय भागवत कथा का हुआ समापन

जौनपुर(21दिस.)मीरगंज के करियांव गांव में चल रही सात दिवसीय श्रीमदभागवत कथा संपन्न हुई। सात दिनों तक चलें इस भागवत कथा में चार वेद, पुराण, गीता एवं श्रीमद भागवत महापुराणों की व्याख्या, प्रभुपाद, श्रीमद मथुरा बृंदावन से पधारे महाराज श्री विष्णुशरण के श्री मुख से सुनकर श्रद्धालु श्रवण पान कर अमृत मय संगीत की धारा से भक्तगण गदगद हो गए।
सात दिनों तक भगवान श्री कृष्णजी के वात्सल्य प्रेम, असीम प्रेम के अलावा उनके द्वारा किये गये विभिन्न लीलाओं का वर्णन कर वर्तमान समय में समाज में व्याप्त अत्याचार, अनाचार, कटुता, व्यभिचार को दूर कर सुंदर समाज निर्माण के लिए युवाओं को प्रेरित किया। सात दिवसीय इस धार्मिक अनुष्ठान के सातवें एवं अंतिम दिन श्री महाराज ने श्री कृष्ण जी के सर्वोपरी लीला , मथुरा गमन, दुष्ट कंसराजा के अत्याचार से मुक्ति के लिए कंसबध, कुबजा उद्धार, रुक्मिणी विवाह, शिशुपाल वध एवं सुदामा चरित्र का वर्णन कर लोगों को भक्तिरस में डुबो दिया।
श्री विष्णुशरण जी महाराज एवं सहयोगियों द्वारा प्रस्तुत की गई एक से बढ़कर एक भजन से पंडाल में उपस्थित लोगो को धुन पर नृत्य करने के लिए विवश कर दिया। श्री विष्णु शरण महाराज ने सुंदर समाज निर्माण के लिए गीता से कई उपदेश के माध्यम से उसे अनुरूप आचरण करने को कहा जो काम प्रेम के माध्यम से संभव है वह हिंसा से संभव नहीं हो सकता है। क्षणभंगुर इस जीवन में देश एवं समाज के लिए अच्छे कामों द्वारा अपना छाप छोड़ने को कहा।
कथा के अंत मे कार्यक्रम के संयोजक विश्वनाथ सिंह , वीरेंद्र कुमार सिंह , महेंद्र प्रताप सिंह सपरिवार भगवान रूपी महाराज की आरती उतारी। और आये हुए सभी श्रद्धालुओं के सेवा भाव मे पलक पावड़े बिछाये रहे।
इस मौके पर सुरेंद्र बहादुर सिंह , अभय सिंह (इंजीनयर यूनाइटेड स्टेट ऑफ अमेरिका), अजय सिंह , ध्रुव सिंह , कृष्ण कांत दूबे , आकाश सिंह , पुष्पेंद्र सिंह , डॉ संतोष सिंह (प्रधानाचार्य), उमाशंकर गुप्ता , मातशंकर उपाध्याय , जज सिंह अन्ना , विकास सिंह सहित सैंकड़ों भक्तों ने भगवत कथा का श्रवण करते हुए प्रसाद ग्रहण किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.