Breaking News
Home / Latest / जौनपुर। शहीदोंके मजारों पर लगेंगे हर बरस मेले बाकी यही निशा होगी।। स्व. राजकुमार के 23वीं पुण्यतिथि पर विशेष
dav

जौनपुर। शहीदोंके मजारों पर लगेंगे हर बरस मेले बाकी यही निशा होगी।। स्व. राजकुमार के 23वीं पुण्यतिथि पर विशेष

स्व. राजकुमार सिंह, स्व. कैलाश दूबे, बांकेलाल तिवारी पर विशेष

।।शहीदों के मजारों पर लगेंगे हर बरस मेले बाकी यही निशा होगी।।
जौनपुर(24जन.)। उपर लिखी लाईन को किसी शायर ने सच ही कहा था। वास्तव में आज ऐसे ही शहीद का 23 वीं पुण्यतिथि जनपद के मडियाहू तहसील स्थित जमालापुर बाजार में मनाई जा रही है। जहां हजारों मरीज नि:शुल्क उपचार करा कर इन शहीदों को श्रद्धांजलि देते चले जा रहे हैं।
जी हां हम बात कर रहे हैं ऐसे युवा नेता जो जात से पात से और संबंधों से उठकर सेवा की भावना रखते थे आज हमारे बीच नहीं है। ऐसे थे मडियाहू तहसील के जमालापुर ग्रामसभा स्थित पट्टी गांव निवासी स्व. राजकुमार सिंह एवं धौरहरा गांव निवासी कैलाश नाथ दुबे और कुंभापुर गांव के सरकारी कुर्क अमीन बांके लाल तिवारी।
जनपद में प्रतिष्ठित व्यक्तियों में स्थान रखने वाले पूर्व जिला पंचायत सदस्य राजकुमार सिंह, स्व. कैलाश नाथ दुबे तथा इनके अजीज दोस्त बांके लाल तिवारी की हत्या 24 जनवरी 1996 को उस समय कर दी गई जब जमालापुर बाजार में एक जगह बैठकर आपस में बातचीत कर रहे थे। इन दिवंगत प्रतिनिधियों की याद में बाजार में ही शहीद स्तम्भ स्थापित किया गया। निरंतर 23 वर्षों से लगातार शहीद स्तम्भ पर उनके भ्राता शिवराम सिंह भोले के द्वारा श्रद्धांजलि का आयोजन किया जाता है। जिसमें हजारों मरीजों का उपचार , दवा निःशुल्क कराया जाता है।
विदित हो कि उस समय स्व. राजकुमार सिंह सहित कैलाश नाथ दूबे की राजनीतिक ख्याति जनपद ही नहीं प्रदेश में फैलती जा रही थी जिसके कारण विरोधी मुश्किल में पड़ते जा रहे थे। स्व. राजकुमार सिंह टीडी इण्टर कालेज एवं डिग्री कॉलेज के अध्यक्ष रहे हैं। 1995 में द्वय नेता एक साथ जिला पंचायत का चुनाव जीतने के बाद क्षेत्र के गरीब, कमजोर, वंचित शोषितों की मदद के लिए हमेशा तत्पर रहते थे। युवा एवं बहादुर होने के साथ स्व. राजकुमार सिंह व कैलाश नाथ की जोड़ी लोगों में लोकप्रिय होती गयी और विरोधियों के लिए किरकिरी बनती गयी। लोग अपनी समस्याएं सांसदों विधायकों से कहने के बजाय इन्हीं प्रतिनिधियों से कहते थे जिसका निस्तारण सहज हो जाता था। मृत्यु के दो दशक से अधिक बितने को है लेकिन क्षेत्र का आम आदमी, गरीब, असहाय इन नेता द्वय का नाम आते ही कराह उठता है। लोग कहने से नहीं चूकते कि आज हमारी परेशानी इसलिए भी बढ़ी क्योंकि हमारे प्रिय प्रतिनिधि नहीं रहे।
उनकी याद में राजकुमार सिंह मेमोरियल ट्रस्ट द्वारा इस दिन निःशुल्क चिकित्सा शिविर आयोजित किया जाता है। गुरुवार को शिविर में डा. आलोक सिंह के नेतृत्व में करीब 700 मरीजों का इलाज कर दवा दिया गया। इस अवसर पर डॉ आनंद सिंह डॉ विनीत वर्तिका डॉक्टर सौरभ उपाध्याय, डॉक्टर बीपी गुप्ता, डॉक्टर नीलम गुप्ता ने निःशुल्क शिविर में अपना योगदान दिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.