Breaking News
Home / Latest / जौनपुर। अवैध कब्जे के मामले में पुलिस लेखपाल के अनुसार ही करेगी काम- बोले एसपी

जौनपुर। अवैध कब्जे के मामले में पुलिस लेखपाल के अनुसार ही करेगी काम- बोले एसपी

जौनपुर(22फर.)। नवागत पुलिस अधीक्षक आशीष तिवारी ने कहा है कि अवैध कब्जे के मामले में पुलिस और राजस्व की संयुक्त टीम काम करेगी और मौके पर लेखपाल ही सही गलत का निर्धारण करेगा। श्री तिवारी शुक्रवार को पुलिस लाइन के मनोरंजन कक्ष में पत्रकारों से प्रेस वार्ता के दौरान कहीं। उन्होंने कहा कि जौनपुर ऐतिहासिक जनपद है। यहां की कानून व्यवस्था सही चले इसके लिए पब्लिक, पुलिस और पत्रकार सहयोग कर सकते हैं। कोई भी सूचना, समस्या एवं सुझाव हो तो दे सकते हैं। कहा कि अपराधियों पर शिकन्जा कसा जायेगा और शासन के अनुरूप काम किया जायेगा। किसी भी पीड़ित को पुलिस असंतुष्ट नहीं करेगी। पीड़ितों की समस्या का समाधान हमारी प्राथमिकता है। पीड़ित की समस्या का हल होने के बाद मैं खुद उसे फोन करके उसका फीडबैक लूंगा। उन्होंने भू-माफिया के सवाल पर कहा कि अवैध कब्जे के मामले में पुलिस और राजस्व की संयुक्त टीम काम करेगी और मौके पर लेखपाल ही सही गलत का निर्धारण करेगा। पुलिस हमेशा शान्ति व्यवस्था के लिए तत्पर रहेगी। इसके अलावा हमने जाना क्षेत्र प्रमुख स्थानों पर पुलिस अधिकारियों के महत्वपूर्ण नम्बर लिखवा दिया है ताकि आम आदमी को जरूरत पड़ने पर इधर उधर ढ़ूढना न पड़े। शहर में जाम की समस्या पर उन्होंने कहा कि जाम जब लगना शुरू होगा तभी हमारे मातहत उसे समाप्त कराने में जुट जाएंगे क्योंकि जब लंबा जाम लग जाता है तो उसमें वक्त लगता है। इसके लिए कंट्रोल रूम बनाकर निगरानी की जाएगी। उन्होने कहा कि होटलों की तर्ज पर थानों में महिला रिशेप्शनिस्ट तैनात की जायेगी जो थानों में आने वालों के साथ विनम्रता का व्यवहार करते हुए उनकी समस्या को सुनेगी और उसके निस्तारण की कार्यवाही करायेगी। बता दें कि वह 2012 बैच के आईपीएस अधिकारी है और मिर्जापुर में भी बतौर एसपी तैनात रह चुके है। वह मूल रूप से मध्य प्रदेश के इटारसी के रहने वाले हैं। उन्होंने 12 वीं तक की पढ़ाई इटारसी के केंद्रीय विद्यालय में पूरी किया। इसके बाद उन्होंने वर्ष 2002 और 2007 में कानपुर आईआईटी से कम्प्यूटर साइंस में बीटेक और एमटेक की पढ़ाई पूरी किया। वर्ष 2011 में आईआरएस इनकम टैक्स में उनका सिलेक्शन हुआ। इसमें उन्हें 330वीं रैंक मिली। इसके बाद 2012 में उनका आईपीएस में सेलेक्शन हुआ।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!